हम हैं आपके साथ

कृपया हिंदी में लिखने के लिए यहाँ लिखे.

आईये! हम अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी में टिप्पणी लिखकर भारत माता की शान बढ़ाये.अगर आपको हिंदी में विचार/टिप्पणी/लेख लिखने में परेशानी हो रही हो. तब नीचे दिए बॉक्स में रोमन लिपि में लिखकर स्पेस दें. फिर आपका वो शब्द हिंदी में बदल जाएगा. उदाहरण के तौर पर-tirthnkar mahavir लिखें और स्पेस दें आपका यह शब्द "तीर्थंकर महावीर" में बदल जायेगा. कृपया "निर्भीक-आजाद पंछी" ब्लॉग पर विचार/टिप्पणी/लेख हिंदी में ही लिखें.

रविवार, फ़रवरी 20, 2011

आलोचना करें, ईनाम पायें !

आलोचना करें, ईनाम पायें !

 आप मेरे ब्लॉग की आलोचना कीजिए और 200 रूपये का नकद ईनाम (पांच व्यक्ति) मनीआर्डर से घर बैठे ही पायें!मेरे ब्लॉग पर और क्या-क्या होना चाहिए, मेरे पास अनेकों जनहित से जुड़ी कुछ रिकोर्टिग है उन्हें कैसे ब्लॉग पर डाला जा सकता है? इसकी सुन्दरता ओर कैसे सुंदर हो सकती हैं, आलोचना करते समय अपशब्दों प्रयोग न करके बल्कि यह बताये कि-इस कमी को ऐसे ठीक किया जा सकता है. किसी भी प्रकार की जानकारी या सुझाव हिंदी में होने के साथ-साथ आम बोलचाल की भाषा में होना चाहिए. जानकारी देते समय यह याद रखना है कि-किसी भी प्रकार की जानकारी के साथ उदाहरण भी देना है. जैसे-मैंने इन्टरनेट या अन्य सोफ्टवेयर में हिंदी की टाइपिंग कैसे करें और हिंदी में ईमेल कैसे भेजें में दिया है और कहाँ पर क्या-क्या सावधानी बरतनी होगी. आप चाहे एक ही सुझाव दें मगर उसका बताने का तरीका बिलकुल आसान होना चाहिए. जानकारी आप ईमेल से भी दे सकते हैं मगर अपना पूरा नाम, पिनकोड सहित पूरा पता और फ़ोन नं. के साथ ही अपना ईमेल आई डी भी लिखना न भूलें.

इसके अतिरिक्त आप निडर है और मेरे प्रकाशन के साथ "संवाददाता", लेखक या अन्य किसी प्रकार के रूप (पद) में जुड़ना चाहते हैं तो अपनी उपरोक्त इच्छा व्यक्त करें.

10 टिप्‍पणियां:

  1. aalochnaa aalochnaa aalochna aalochnaa aalochna aalochnaa aalochnaa aalochnaa aaalochna bs bhaai itne khubsurt blog ki men isse zyaada aalochna nhin kr skta ab aapko do so rupye bhejna ho to bhejo nhin to aapke paas rkh lo jb milenge tb le lenge bhai is nye andaz ke liyen nye blog ke liyen bhut bhut mubarkbad hmen bhi aap apne saath shaamil kr len pliz . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  2. आलोचना, आलोचना, आलोचना, आलोचना, आलोचना, आलोचना, आलोचना, आलोचना, आलोचना बस भाई इतने खुबसूरत ब्लॉग की मैं इससे ज्यादा आलोचना नहीं कर सकता. अब आपको दो सौ रूपये भेजना हो तो भेजो, नहीं तो आपके पास रखलो. जब मिलेंगे तब ले लेंगे भाई. इस नये अंदाज़ के लियें नये ब्लॉग के लियें बहुत-बहुत मुबारकबाद. हमें भी आप अपने साथ शामिल कर लें प्लीज़. अख्तर खान अकेला, कोटा-राजस्थान
    श्रीमान अख्तर खान अकेला जी, आपकी टिप्पणी का हिंदी में अनुवाद व संपादित कर दिया है. आपको मेरे ब्लॉग में कोई कमी दिखाई नहीं दी, इसका मुझे अफ़सोस है. शायद आप आलोचना करके नाराज नहीं करना चाहते थें. इसलिए मुझे चने के छाड़ पर चढ़ा दिया आपने. जहाँ तक दो सौ रूपये की बात है आप उसको पाने के शर्तों का पालन नहीं किया है. हमने आपको बहुत पहले से शामिल किया हुआ है. शायद आप किसी की आलोचना करने से डरते हैं, मगर मैं नहीं डरता. यह देखो मैं आपकी अभी आलोचना करके दिखता हूँ. यह रही आपकी आलोचना-श्रीमान जी आप अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखते हैं और मेरे या अन्य ब्लॉग पर टिप्पणी अंग्रेजी भेजते हैं. कहिये कैसी लगी आपको हमारी खुबसूरत आलोचना! लिखना जरुर इन्तजार रहेगा............आपके जवाब का.

    उत्तर देंहटाएं
  3. रमेश जी शुक्रिया अब तो में बे फ़िक्र हो गया हूँ में ऐसा ही ठेठ गंवार हूँ २० साल तक देनिक अख़बार का स्वतंत्र सम्पादन किया हे इसलियें ऐसा कमजोर लिक्खड़ बन गया हूँ अब आपसे गुर सिक्ख कर कुछ तो करूंगा ही . अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभकामनायें । 200 रुपये पास रखें मगर हिन्दी लिखने के लिये यूनिकोड मेमुझे cafehindi से बडिया कोई टूल नही लगा इसे वोर्क पैड पर आफ लाईन भी इस्तेमाल कर सकते हैं जी मेल यहू मे चैट भी कर सकते हैं\ इसके लिये cafehindi.com par jaa kar aap Daaun loD kar sakate hain. dhanyavaad|मेरे नाम पर क्लिक करके मेरा पता मिल जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने ब्लॉग का नाम सही रखा है ......
    बुरा न मानो होली है ....
    होली की शुभकामनाये
    पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ है ..आलोचना फिर कभी

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी राज्य सरकार जनता को चुनाव के समय ही याद करती ह उसके बाद कयो याद नहीं करती

    उत्तर देंहटाएं

अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें. आप हमारी या हमारे ब्लोगों की आलोचनात्मक टिप्पणी करके हमारा मार्गदर्शन करें और हम आपकी आलोचनात्मक टिप्पणी का दिल की गहराईयों से स्वागत करने के साथ ही प्रकाशित करने का आपसे वादा करते हैं. आपको अपने विचारों की अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है. लेकिन आप सभी पाठकों और दोस्तों से हमारी विनम्र अनुरोध के साथ ही इच्छा हैं कि-आप अपनी टिप्पणियों में गुप्त अंगों का नाम लेते हुए और अपशब्दों का प्रयोग करते हुए टिप्पणी ना करें. मैं ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं करूँगा. आप स्वस्थ मानसिकता का परिचय देते हुए तर्क-वितर्क करते हुए हिंदी में टिप्पणी करें.

पहले हमने यह भी लिखा हैRelated Posts Plugin for WordPress, Blogger...
यह है मेरे सच्चे हितेषी (इनको मेरी आलोचना करने के लिए धन्यवाद देता हूँ और लगातार आलोचना करते रहेंगे, ऐसी उम्मीद करता हूँ)
पाठकों और दोस्तों मुझसे एक छोटी-सी गलती हुई है.जिसकी सार्वजनिक रूप से माफ़ी माँगता हूँ. अधिक जानकारी के लिए "भारतीय ब्लॉग समाचार" पर जाएँ और थोड़ा-सा ध्यान इसी गलती को लेकर मेरा नजरिया दो दिन तक "सिरफिरा-आजाद पंछी" पर देखें.

आदरणीय शिखा कौशिक जी, मुझे जानकारी नहीं थीं कि सुश्री शालिनी कौशिक जी, अविवाहित है. यह सब जानकारी के अभाव में और भूलवश ही हुआ.क्योकि लगभग सभी ने आधी-अधूरी जानकारी अपने ब्लोगों पर डाल रखी है. फिर गलती तो गलती होती है.भूलवश "श्रीमती" के लिखने किसी प्रकार से उनके दिल को कोई ठेस लगी हो और किसी भी प्रकार से आहत हुई हो. इसके लिए मुझे खेद है.मुआवजा नहीं देने के लिए है.अगर कहो तो एक जैन धर्म का व्रत 3 अगस्त का उनके नाम से कर दूँ. इस अनजाने में हुई गलती के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ.

मेरे बड़े भाई श्री हरीश सिंह जी, आप अगर चाहते थें कि-मैं प्रचारक पद के लिए उपयुक्त हूँ और मैं यह दायित्व आप ग्रहण कर लूँ तब आपको मेरी पोस्ट नहीं निकालनी चाहिए थी और उसके नीचे ही टिप्पणी के रूप में या ईमेल और फोन करके बताते.यह व्यक्तिगत रूप से का क्या चक्कर है. आपको मेरा दायित्व सार्वजनिक रूप से बताना चाहिए था.जो कहा था उस पर आज भी कायम और अटल हूँ.मैंने "थूककर चाटना नहीं सीखा है.मेरा नाम जल्दी से जल्दी "सहयोगी" की सूची में से हटा दिया जाए.जो कह दिया उसको पत्थर की लकीर बना दिया.अगर आप चाहे तो मेरी यह टिप्पणी क्या सारी हटा सकते है.ब्लॉग या अखबार के मलिक के उपर होता है.वो न्याय की बात प्रिंट करता है या अन्याय की. एक बार फिर भूलवश "श्रीमती" लिखने के लिए क्षमा चाहता हूँ.सिर्फ इसका उद्देश्य उनको सम्मान देना था.
कृपया ज्यादा जानकारी के लिए निम्न लिंक देखे. पूरी बात को समझने के लिए http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/07/blog-post_17.html,
गलती की सूचना मिलने पर हमारी प्रतिक्रिया: http://blogkeshari.blogspot.com/2011/07/blog-post_4919.html

यह हमारी नवीनतम पोस्ट है: